IAS Renu Raj Success Story: डॉ. रेनू राज ने डॉक्टरी छोड़ी, पहले ही प्रयास में बनीं IAS अफसर 

IAS Renu Raj Success Story : यहाँ हम आईएएस रेनू राज (Renu Raj) की Success Story बता रहे है. अगर आप एक स्टूडेंट है, तो आपको यह स्टोरी जरुर पढ़नी चाहिए. रेनू राज आईएएस बनने से पहले डॉक्टर थी, जिसके बाद भी रेनू ने यूपीएससी परीक्षा में शामिल होने की ठानी. चलिए आगे जानते है IAS Renu Raj की सफ़लता की कहानी.

Dr. Renu Raj IAS Success Story

केरल के कोट्टायम की रहने वाली रेनू राज (Renu Raj) ने 2013 में डॉक्टरी के साथ ही यूपीएससी एग्जाम (UPSC Exam) की तैयारी में जुट गयी थी. डॉक्टरी के साथ साथ पढाई कर कुछ ही महीनो की तैयारी से सिविल सर्विस परीक्षा (Civil Services Exam) दी. जिसमे रेनू राज ने पहले ही अटेंप्ट में ऑल इंडिया रैंकिंग में दूसरा स्थान प्राप्त किया. वर्तमान में Dr. Renu Raj IAS केरल राज्य के अलाप्पुझा की जिला कलेक्टर (District Collector) के पद पर है.  डॉ. रेनू राज का नाम देश के सबसे कुशल आईएएस ऑफिसर्स की लिस्ट में लिया जाता है.

Dr. Renu Raj IAS Education

Dr. Renu Raj IAS ने प्रारंभिक शिक्षा केरल के कोट्टायम में स्थित सेंट टेरेसा हायर सेकेंडरी स्कूल से प्राप्त की है. प्रारंभिक शिक्षा खत्म होने के बाद इन्होने कॉलेज में मेडिकल की पढाई के लिए दाखिला लिया. अपने ही शहर की गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज (Government Medical College) से मेडिकल की पढ़ाई पूरी की. डॉक्टर बनने के बाद साल 2013 में उन्होंने डॉक्टरी के साथ ही यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) की तैयारी शुरू कर दी.

Dr. Renu Raj IAS family : रेनू राज को सिविल सर्विस परीक्षा के पहले ही अटेंप्ट में सफ़लता मिल गयी. जिसमे उन्होंने दूसरी रैंक हासिल की. बता दे की रेनू के पिता M K Rajakumaran Nair सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी हैं और मां Latha V N एक हाउस वाइफ हैं. रेनू की दोनों बहनें और उनके पति का नाम Sriram Venkitaraman हैं, यह भी IAS और एक डॉक्टर है.

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़े !

डॉ. रेनू राज ने में एक इंटरव्यू में बताया था की, 2013 से ही वे यूपीएससी परीक्षा की तैयारी में जुट गयी थी, तब भी रेनू डॉक्टर के तौर पर काम कर रही थीं. रेनू राज ने बताया की वे ज्यादा से ज्यादा लोगों के काम आना चाहती थीं. ऐसे में उनके मन में ख्याल आया कि एक डॉक्‍टर होने के नाते वे 50 या 100 मरीजों की मदद कर सकती थीं, लेकिन सिविल सेवा अधिकारी बनकर उनके एक फैसले से हजारों लोगों को फायदा मिलेगा.

Leave a Comment